यूपी में बर्खास्त 64 फर्जी शिक्षकों का गैंग, सरकार को लगाया 6 करोड़ का चूना, लगेगा गैंगस्टर

संवाद न्यूज़ नेटवर्क

यूपी में शिक्षा विभाग महज एक मजाक बनकर रह गया है। दलालों और घूसखोरों ने पूरे शिक्षा विभाग में ही भ्रष्टाचार और फर्जीवाड़े का बम लगा रखा है। अभी कुछ ही दिनों पहले अनामिका शुक्ला के नाम पर विभिन्न क्षेत्रों में नौकरी कर रहे लोगों का पर्दाफाश हुआ था। वहीं एक बार फिर मऊ में भी एक बड़ा मामला सामने आया है।

जिसमें 64 फर्जी शिक्षकों का खुलासा किया गया है। ये सभी फर्जी दस्तावेजों के सहारे नौकरी करके वेतन के रूप में सरकार के 6 करोड़ रूपए हजम कर गए। कितना गजब का सिस्टम बनाया गया है कि प्रशासन के नाक के नीचे लोग फर्जी तरीके से पैसा कमा रहे हैं और पढ़ा लिखा विद्वान व्यक्ति शिक्षक पात्रता परीक्षा पास करके एक अच्छा पद पाने के लिए जीवन भर बैठा रह जाता है.

पकड़े गए कुल 64 शिक्षक फर्जी जरूर हैं लेकिन उनसे कहीं ज्यादा फर्जी सरकार का घटिया सिस्टम है जिसके कारण ये सपोले आज तक पल रहे थे। फर्जी वो लोग हैं जिनके मदद से ये लोग उस कुर्सी पर जा बैठे जिसके हकदार ये हैं ही नहीं। फर्जी वो लोग हैं जिन्होंने धीरे से मेज के नीचे से पैसे लेकर इनको शिक्षक बना दिया।

अब ऐसी खबर मिल रही है कि इन सभी लोगों से 6 करोड़ रूपए की वसूली कुर्की के माध्यम से की जाएगी। वहीं इस पूरे प्रकरण पर जिलाधिकारी ज्ञान प्रकाश त्रिपाठी ने कहा कि इन सभी फर्जी शिक्षकों पर गैंगस्टर के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा 6 करोड़ रूपए की वसूली के लिए नोटिस जारी की गई है जिसका उत्तर अभी नहीं मिला है। इसीलिए अब कुर्की की जाएगी।

उन्होंने जानकारी देते हुए ये भी बताया कि 70 से ज्यादा लिपिकों को जांच के दायरे में रखा गया है। यदि इस जांच में वो दोषी पाए गए तो उन पर मुकदमा भी दर्ज किया जाएगा।

दरअसल मऊ जिले में ममता राय के नाम पर कई लोग फर्जी दस्तावेज का प्रयोग करके सरकार से बखूबी पैसा ऐंठ रहे थे। ममता राय बलिया की निवासी हैं और उनके नाम पर बलिया की ही रहने वाली रंभा पांडेय वर्ष 2000 से ही मऊ में फर्जी तरीके से नौकरी कर रही थीं।

इतना ही नहीं वो महाराजगंज से अपना ट्रांसफर करवा के आई थीं। फिलहाल जब रंभा को मामले का खुलासा होने की जानकारी हुई तो वह फरार हो गई है। उसे नौकरी से हटा दिया गया है और मुकदमा भी दर्ज किया जा रहा है।

ये भी पढ़े: पूर्व आर्मी चीफ और केंद्रीय मंत्री वी के सिंह का दावा, भारत ने भी पकड़े थे चीन के सैनिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.