पूर्वी उत्तर प्रदेश में बाढ़ तो पश्चिम में डेंगू बुखार से हाहाकार, सिस्टम फिर लाचार ?

उत्तर प्रदेश में चुनावी माहौल शुरू हो चुके हैं हर एक पार्टी अपनी राजनीतिक पकड़ बनाना शुरु कर दी है. तो वही उत्तर प्रदेश इन दिनों भारी संकट के दौर से गुजर रहा है, पूर्वी उत्तर प्रदेश में बाढ़ तो पश्चिम यूपी में बुखार से हाहाकार मचा हुआ है. प्रदेश को कोरोना महामारी से राहत मिलते ही अब बाढ़ और तेज बुखार का जबरदस्त प्रकोप जारी है.

पूर्वी उत्तर प्रदेश (Flood in Uttar Pradesh) में बाढ़ का कहर जारी है वाराणसी, गोरखपुर, कौशांबी, चंदौली, गोंडा समेत 20 जिलों में बाढ़ की चपेट से लाखों लोग प्रभावित हुए हैं तो वहीं कईयों की मौत भी हो चुकी है किसानों के खेत जलमग्न हैं पूरी तरह फसल बर्बाद हो चुकी है, जलजमाव के कारण लोगों में बीमारियां बुरी तरह से फैल रही है बिजलियां खराब पड़ी है तो कई संपर्क मार्ग तक टूट चुके हैं, सड़क के ऊपर पानी बह रहा है तो कहीं पुल के ऊपर से पानी बह रहा है, बाढ़ प्रभावित इलाकों में सरकार भी नाकाम दिख रही हैं, वही योगी सरकार और खुद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी जी बाढ़ पीड़ित क्षेत्रों का दौरा कर रहे हैं लेकिन अभी समस्या को सुलझाया नहीं जा सका है.

पश्चिमी उत्तर प्रदेश की बात करें तो डेंगू और तेज बुखार का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है. फिरोजाबाद, मैनपुरी, आगरा, बदायूं, सीतापुर मथुरा समेत कई ज़िलों में बुखार खतरनाक स्थिति में पहुंच रहा है. बुखार से तप रहे जिलों के अस्पतालों का बुरा हाल है जिला अस्पताल के बाहर बुखार से पीड़ित मरीजों की लंबी-लंबी लाइनें लगी हैं.

वहीं सीएमओ की तरफ से ट्वीट कर जानकारी दी गई हैं कि SGPGI, KGMU और RMLIMS लखनऊ के तीन-तीन विशेषज्ञ चिकित्सकों की तीन टीम गठित कर जनपद फिरोजाबाद, मथुरा और आगरा भेजी जाए। विशेषज्ञ चिकित्सकों की यह टीम स्थानीय डॉक्टरों का मार्गदर्शन करेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.