रायबरेली से मैं नहीं, सोनिया गांधी ही चुनाव लड़ेंगीं: प्रियंका गाँधी

संवाद न्यूज़ ब्यूरो

पॉलिटिकल डेस्क : राहुल गांधी ने आज आधिकारिक रूप से प्रेसिडेंट का पदभार संभाल लिया। इस मौके पर उनकी बहन प्रियंका गांधी अपने पति रॉबर्ट वाड्रा के साथ कांग्रेस दफ्तर में मौजूद थीं। लोगो के सवाल का जवाब देते हुए प्रियंका ने रायबरेली से इलेक्शन लड़ने की सारी अटकलों पर विराम लगा दिया। प्रियंका ने कहा कि उनकी मां (सोनिया गांधी) एक मजबूत महिला हैं और आने वाले चुनाव में वो ही रायबरेली से खड़ी होंगी। बता दें कि पिछले काफी समय से कयास लगाए जा रहा थे कि 2019 के लोकसभा इलेक्शन में सोनिया की जगह प्रियंका रायबरेली से चुनाव लड़ सकती हैं

कांग्रेस अध्यक्ष की कमान राहुल गांधी के हाथों में सौंप दी गई है. शनिवार को देशभर के पार्टी नेताओं से लेकर कार्यकर्ता का जमघट कांग्रेस मुख्यालय में लगा रहा. ऐसे में हर मौके पर राहुल के साथ खड़ी नजर आने वाली बहन प्रियंका भला कैसे पीछे रहतीं? प्रियंका ने राहुल के घर जाकर पहले बधाई दी और मां सोनिया गांधी के साथ पार्टी दफ्तर पहुंचीं. प्रियंका राहुल की ताजपोशी के लिए सजे मंच और पार्टी नेताओं के संग बैठने के बजाए रायबरेली-अमेठी से आए पार्टी कार्यकर्ता के बीच नजर आईं.

बता दें कि कांग्रेस के दुर्ग कहे जाने वाले रायबरेली-अमेठी में मां सोनिया गांधी और भाई राहुल गांधी के लिए जीत की भूमिका बनाने का काम भी प्रियंका गांधी ही करती रही हैं. सोनिया और राहुल देशभर में प्रचार करते हैं, लेकिन रायबरेली में चुनाव प्रचार का कार्यभार का जिम्मा प्रियंका ही निभाती हैं.

रायबरेली परिवार’ के बीच जा बैठीं प्रियंका

शनिवार को राहुल गांधी की ताजपोशी में प्रियंका गाँधी  अपने पति रॉबर्ट वाड्रा के साथ शामिल हुईं. कांग्रेस मुख्यालय में प्रियंका ने  रायबरेली-अमेठी से आए पार्टी कार्यकर्ताओं से सीधी मुलाकात की. इतना ही नहीं, अमेठी के दिग्गज नेता और कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य डॉ. संजय सिंह, रायबरेली में सोनिया गांधी के प्रतिनिधि किशोरी लाल शर्मा, कल्याण गांधी, गणेश शंकर पांडेय सहित अमेठी और रायबरेली के कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत की और उन्हीं के बीच बैठकर भाई राहुल गांधी की ताजपोशी देखी.

मालूम हो कि प्रियंका गांधी खुद राजनीति में नहीं हैं, लेकिन मां सोनिया गांधी और भाई राहुल के लिए हमेशा खेवनहार बनकर सामने आती रही हैं. प्रियंका ने पहली बार साल 1999 के लोकसभा चुनाव में सोनिया गांधी के लिए अमेठी में प्रचार का जिम्मा संभाला था. वह दो सप्ताह अमेठी में रुकी और सोनिया गांधी को लाखों वोटों से जीत दिलाई. साल 1999 में रायबरेली से लड़ रहे कैप्टन सतीश शर्मा की हारती हुई सीट पर प्रियंका ने रोड शो करके जीत में बदल दिया था.(pic by- social media)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *