नेशनल कांग्रेस पार्टी के मुखिया शरद पवार ने कहा- कि 2019 लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र की सत्ता ही बदल जाएगी।

संवाद न्यूज़ डेस्क (हिमांशु राय )

जहां एक तरफ 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टीयों में हलचल का माहौल है तो वहीं दूसरी तरफ राजनेता एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला भी जारी रखे हैं।

आए दिन पार्टीयां तंज कसने का काम जारी रखती हैं। लेकिन सबकुछ देखते हुए ये कहना बिल्कुल गलत नहीं लगता है कि 2019 में होने वाला लोकसभा चुनाव एक कांटे की लड़ाई होगी। जिसको हथियाने के लिए पार्टीयां तरह-तरह के हथकंडे अपना रही हैं। कुछ ऐसा ही नेशनल कांग्रेस पार्टी के मुखिया शरद पवार ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा कि 2019 लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र की सत्ता ही बदल जाएगी।

इंडिया टुडे मुंबई मंथन कार्यक्रम में बयान देते हुए शरद पवार ने कहा, “मुझे ऐसा नहीं लगता है कि 2019 में महाराष्ट्र और केंद्र में सत्ता का समीकरण वही रहेगा”। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि दिल्ली और मुंबई दोनों जगहों पर सत्ता परिवर्तन हो सकता है।

आपको बता दें कि 2004 में लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी नीत एनडीए सरकार में अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री थे और बीजेपी शाइनिंग इंडिया के नारे के साथ आम चुनावों के लड़ाई में उतरी थी। लेकिन उसे असफलता ही हांथ लगी। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस नीत यूपीए में मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे। क्योंकि शरद पवार ने ये भी कहा कि आज की राजनीतिक परिस्थिति बिल्कुल 2004 जैसी है और 2019 का लोकसभा चुनाव भी बिल्कुल 2004 जैसा ही होगा।

उनका कहना था कि 2004 के चुनाव में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला था। लेकिन मनमोहन सिंह की देखरेख में जो यूपीए की सरकार बनी थी वो 10 सालों तक चलती रही। शरद पवार ने इशारों में ही बीजेपी पार्टी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिलेगा। शरद पवार ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में और पार्टी में उनके कद की तुलना में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बात की जाए तो मुझे लगता है कि अटल बिहारी वाजपेयी एक कद्दावर नेता थे।

एक बार फिर बीजेपी को घेरे में लेते हुए पवार ने कहा कि मुझे नहीं लगता है कि अब पार्टी में ऐसा कोई है जिसका वर्चस्व मजबूत हो।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.