प्रशासन ने किया शर्मसार, एमपी में मजदूर दम्पति को शौचालय में कर दिया क्वारंटाइन

संवाद न्यूज़ डेस्क

मध्य प्रदेश से एक ऐसा मामला सामने आया है जो वहां के प्रशासन पर सवाल खड़ा करता है। जैसा कि कोरोना का प्रकोप पूरे विश्व में है और बाहर से आने वाले लोगों को क्वारंटाइन करने की व्यवस्था की गई है। सभी क्षेत्रों में क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं। वहीं एक मामला मध्य प्रदेश के राघौगढ़ के टोडरा ग्राम पंचायत स्थित देवीपुरा से सामने आया है।

प्रथमिक शाला देवीपुरा में एक सरकारी स्कूल है जिसे क्वारंटाइन सेंटर बना दिया गया है। जहां लोगों को क्वारंटाइन किया जा रहा है। सवाल तब खड़ा होता है जब एक गरीब मजदूर दंपति को उस स्कूल के शौचालय में क्वारंटाइन कर दिया गया।

इसके बाद दंपति उसी शौचालय में भोजन करने पर भी मजबूर थे। उन दोनों ने उसी में बैठकर खाना भी खाया। शौचालय में खाना खा रहे इस मजदूर की फोटो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने इस फोटो को देखकर ट्वीट भी किया है।

वहीं कलेक्टर एस. विश्वनाथ ने सफाई देते हुए कहा कि जिस मजदूर की फोटो सामने आई है वो शराब के नशे में था और शौचालय में पहुंच गया और उसकी पत्नी ने वहीं भोजन परोस दिया।

अब सवाल ये उठता है कि कलेक्टर के अनुसार युवक नशे में था। यदि कलेक्टर की इस बात को मान लिया जाए तो भी प्रश्न उठता है कि पत्नी तो नशे में नहीं थी। क्या उसे समझ ये समझ में नहीं आया कि भोजन कहां परोसा जा रहा है? दूसरा प्रश्न ये भी उठता है कि फोटो में साफ तौर पर दिख रहा है कि युवक के अगल-बगल सामान भी है और एक बर्तन दिख रहा है जिसे ढक कर ऊपर गिलास रखी गई है। यानि उस बर्तन में पानी है। इसका मतलब उसे वहीं क्वारंटाइन ही किया गया है। बाकी कलेक्टर की सफाई से पर्दा जांच के बाद ही उठेगा।


Samvad News पर देश-विदेश की Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट लिए हमें फेसबुक पेज पर लाइक और ट्विटर और फॉलो करें और Telegram पर जुड़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.