पत्नी-बेटी के छलकते रहे आंसू, शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा को दी गई अंतिम विदाई

  • शहीद कर्नल आशुतोष को राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई
  • हंदवाड़ा में शहीद हुए थे कर्नल आशुतोष शर्मा

संवाद न्यूज़ डेस्क

जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में शहीद हुए बहादुर जवान कर्नल आशुतोष शर्मा को जयपुर में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। बताते चलें कि एक घर में छुपे आतंकियों को धूल चटाते समय कर्नल आशुतोष शर्मा अपने साथियों के साथ शहीद हो गए।

शहीद आशुतोष शर्मा अपनी वीरता के लिए ही प्रसिद्ध थे। उन्होंने कई आतंकियोें को बुरी तरह शिकस्त दिया। जिस दिन वो शहीद हुए उस दिन भी वो ऑपरेशन को लीड कर रहे थे। शहीद हुए कर्नल आशुतोष के बहादुरी के किस्से सुनकर उनके बेटे, बेटी और पत्नी काफी गर्व महसूस कर रहे हैं। उनकी पत्नी पल्लवी शर्मा का कहना है कि इस समय सिर्फ उनकी बहादुरी के किस्से सुन रही हूं। इसीलिए मेरी आंखों में आंसू नहीं हैं।

उन्होंने कहा कि मैं उनकी पत्नी होने पर गर्व महसूस कर रही हूं। मुझे लोग उनके नाम से जानेंगे। बताते चलें कि आतंकियों को हैंडल करने में शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा एक्सपर्ट थे। इसीलिए उन्हें कई बार वीरता का पुरस्कार भी मिल चुका है। एक बार कुछ आतंकी अपने कपड़े के अंदर ग्रेनेड छुपाकर जवानों की तरफ बढ़ रहे थे तभी शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा आतंकियों तो सट कर गोली मार दिए थे और अपने जवानों को बचा लिए।

इस वीरता के लिए भी उनको पुरस्कृत किया गया था। 3 मई को भी हंदवाड़ा में कुछ आतंकियों के होने की सूचना कर्नल आशुतोष को मिली थी। आतंकियों के जिस घर में होने की सूचना मिली थी दरअसल आतंकी उस घर में नहीं थे। लेकिन शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा ने बड़ी ही समझदारी से दूसरे घर में आतंकियों को ढूंढ़ लिया।

इसके बाद दो आतंकियों को बड़ी ही वीरता के साथ मार गिराया गया। लेकिन दुर्भाग्यवश पांच सुरक्षाकर्मी भी शहीद हो गए। आज पूरे देश की आंखें शहीद कर्नल आशुतोष के लिए नम हो गई हैं


Samvad News पर देश-विदेश की Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट लिए हमें फेसबुक पेज पर लाइक और Telegram पर जुड़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.