लॉकडाउन की मजबूरी में साइकिल उठा चल पड़ा महाराष्ट्र से घर की और, बीच रस्ते में तोड़ा दम

संवाद न्यूज़ डेस्क

  • यूपी के महाराजगंज का रहने वाला था तबरक अंसारी
  • साइकिल से 350 किलोमीटर चला और हो गई मौत
  • महाराष्ट्र के भिवंडी में नौकरी करता था युवक

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के प्रकोप को देखते हुए आखिरकार सरकार ने तीसरे लॉकडाउन का फैसला कर ही लिया। हांलाकि राहत भरी खबर ये है कि जो भी मजदूर बाहर फंसे थे सरकार ने उनका ध्यान रखते हुए कुछ स्पेशल ट्रेन चलाने की अनुमति दे दी। वहीं दूसरी तरफ अभी भी कई ऐसे लोग हैं जो बेबस होकर एक लंबी दूरी की यात्रा तय कर रहे हैं। नतीजा ये हो रहा है कि कुछ की मौत मंजिल से पहले हो जा रही है तो कुछ घर पहुंचने के बाद मौत का शिकार हो जा रहे हैं।

एक ऐसा ही मामला मध्य प्रदेश के बरवानी से आया है जहां तबरक अंसारी नाम के एक युवक ने अपने घर जाने का फैसला किया लेकिन सफर शुरू करने के बाद बीच रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। दरअसल महाराष्ट्र में काम करके दो वक्त की रोटी का इंतजाम करने वाला युवक जिसका नाम तबरक अंसारी है लॉकडाउन के कारण महाराष्ट्र में ही फंस गया था।

बता दें कि तबरक उत्तर प्रदेश के महाराजगंज का रहने वाला था। वो महाराष्ट्र के भिवंडी में ही नौकरी कर रहा था। वहां पॉवर लूम यूनिट से सभी लोगों की नौकरी चली गई। इसी दौरान समस्याएं बढ़ती ही जा रही थीं जिनको देखकर उसने दस अन्य मजदूर साथियों के साथ साइकिल से घर जाने का फैसला कर लिया था।

उनके साथ रहने वाले युवक रमेश गोंड़ ने पूरी घटना को क्रमवार उजागर करते हुए बताया कि नौकरी चले जाने के बाद सबके सामने एक विकट समस्या खड़ी हो गई थी। अब घर को लौट जाने के अलावा कोई उपाय नहीं बचा था। हम सभी लोगों ने साइकिल से महाराजगंज निकलने का दृढ़ निश्चय कर लिया। लगभग 350 किलोमीटर की दूरी हम लोग तय कर चुके थे। तभी अचानक तबरक की स्थिति खराब होने लगी।

वहीं पुलिस ने इस मामले में कहा है कि ज्यादा थकान और डिहाइड्रेशन भी मौत का कारण बन सकती है। असली वजह क्या थी ये तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट ही बयां करेगी। फिलहाल ये बताते चलें कि इस लॉकडाउन के कारण ऐसे ही कई केस सामने आ चुके हैं। जो कि बेहद दर्दनाक हैं।


Samvad News पर देश-विदेश की Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट लिए हमें फेसबुक पेज पर लाइक और ट्विटर और फॉलो करें और Telegram पर जुड़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.