BHU बना अखाड़े का मैदान, विद्या के मंदिर को किया जा रहा बदनाम

संवाद न्यूज ब्यूरो

 

महामना पं0 मदन मोहन मालवीय का काशी हिंदू विश्वविद्यालय सियासी साजिशों के चलते जेएनयू बनने की राह पर है। इसी के चलते एक बहुत ही सोची समझी साजिश के चलते कल अपराह्म यह विश्वविद्यालय एक बार फिर छात्रों के जबरदस्त हिंसक उपद्रव की चपेट में आ गया। इसका नतीजा ये हुआ कि सवा सौ से भी अधिक वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया।

 

दिल्ली पब्लिक स्कूल की एक बस को भी आग के हवाले कर दिया गया। एक पेट्रोल पंप आग के हवाले होते होते बच गया। विश्वविद्यालय के परिसर में जमकर तोडफोड और उपद्रव करने के बाद उपद्रवी छात्रों ने बाबा विश्वनाथ मंदिर के आसपास के इलाकों में भी जमकर वाहनों में आगजनी और उपद्रव किया। लगभग दो घंटे तक चले उपद्रव के दौरान पुलिस और विश्वविद्यालय प्रशासन तमाशा देखता रहा।

 

इस हिंसात्मक उपद्रव और लूटपाट के मामले में स्थानीय अदालत के द्वारा जारी गैरजमानती वारंट के अनुपालन में छात्र आशेतोष सिंह की गिरफ्तारी कर दी गई जिसके विरोध में छात्रों के एक गुट ने जमकर बवाल किया था। उपद्रवी छात्र अपने चेहरे पर नकाब डाले हुुए थे। इसके बावजूद, उनमें से अधिकांश उपद्रवी छात्र विश्वविद्यालय के प्राक्टोरियल बोर्ड की पहचान में आ गये हैं। लिहाजा उसकी तहरीर पर ऐसे 15 उपद्रवी छात्रों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज हो गयी है।

पता चला है कि नवंबर मे बीएचयू के आईआईटी में हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम के विरोध में छात्रों के एक गुट ने मारपीट, कैमरा लूटने, लैपटाप तोड़ने जैसे कई हिंसात्मक उपद्रव किया था। इसे लेकर पुलिस ने बिड़ला छात्रावास में रहने वाले छात्रनेता आश्ज्ञुतोष सिंह के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज की थी।

 

इस मामले की सुनवाई करते हुए स्थानीय एक अदालत ने आशुतोष सिंह की गिरफ्तारी के लिये गैरजमानती वारंट जारी किया था। इसके अनुपालन में लंका थाना की पुलिस ने कल दोपहर के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया था। इसके विरोध में उसके समर्थक मुठ्ठी भर छात्रों के एक गुट ने हिंसा का नंगा नाच किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *