गणतंत्र दिवस 2019: आओ देश का सम्मान करे शहीदो की शहादत को याद करे

Kumbh Special with anupriya on samvad news
संवाद न्यूज़ (अनुप्रिया)
आज गणतंत्र दिवस की धूम हर जगह देखने को मिलती है। आज ही के दिन भारत में संविधान लागू हुआ था। वैसे तो जवाहर लाल नेहरू, भीम राव आंबेडकर जी, डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद जी ने फैसला किया था कि संविधान को 26 नवम्बर 1949 को लागू किया जाये क्योंकि उस दिन यह पूर्णतः पूरा हो गया था परंतु  26 जनवरी 1930 भारत ने अपना पहला स्वतंत्रता दिवस मनाया था इसीलिए हमारे प्रिय नेताओं ने इसी दिन को चुना।
आज के दिन स्कूलों में, कॉलेजों में और दफ्तरों में तरह तरह के कार्यक्रम होते हैं जो आम लोगों का मन मोह लेता है।
सींच दो अपने ख़ूँ से जमीं पर लकीर
इस तरफ आने पाये ना रावण कोई
तोड़ दो अगर कोई हाथ उठने लगे
छू ना पाये सीता का दामन कोई
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियो
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो
मनाये जाने का कारण-
26 जनवरी (26 January) का दिन भारत के इतिहास में विशेष महत्व रखता है. इस दिन कई ऐतिहासिक घटनाएं हुई थी. साल 1929 में दिसंबर में लाहौर में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अधिवेशन पंडित जवाहरलाल नेहरू की अध्यक्षता में हुआ. इस अधिवेशन में प्रस्ताव पारित कर इस बात की घोषणा की गई कि यदि अंग्रेज सरकार द्वारा 26 जनवरी 1930 तक भारत को डोमीनियन का दर्जा नहीं दिया गया तो भारत को पूर्ण रूप से स्‍वतंत्र देश घोषित कर दिया जाएगा. जब अंग्रेज सरकार ने कुछ नहीं किया तब कांग्रेस ने 26 जनवरी 1930 को भारत को पूर्ण स्वराज घोषित कर दिया. भारत की आजादी के बाद संविधान सभा की घोषणा की गई जिसने अपना कार्य 9 दिसम्बर 1947 से शुरु किया. संविधान सभा ने  2 साल, 11 महीने, 18 दिन में भारतीय संविधान का निर्माण किया.
Photo Source: Social Media
हर्ष दिवस- 
26 नवंबर 1949 को संविधान सभा के अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र प्रसाद को भारतीय संविधान सुपूर्द किया गया, इसी लिए हर साल 26 नवंबर को  संविधान दिवस (Constitution Day) के रूप में मनाया जाता है. बता दें कि अनेक सुधारों और बदलावों के बाद सभा के 308 सदस्यों ने 24 जनवरी 1950 को संविधान की दो हस्तलिखित कॉपियों पर हस्ताक्षर किये. इसके दो दिन बाद संविधान 26 जनवरी को देश भर में लागू हो गया. 26 जनवरी का महत्व बनाए रखने के लिए इसी दिन संविधान निर्मात्री सभा (कांस्टीट्यूएंट असेंबली) द्वारा स्वीकृत संविधान में भारत के गणतंत्र स्वरूप को मान्यता प्रदान की गई. इसलिए 26 जनवरी (26th January) को हर साल गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है.
Photo Source- Social Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *