सुरमे की तरह पीसा है हमें हालातों ने, तब जा के चढ़े है लोगों की निगाहों में।

संवाद न्यूज (हिमांशु राय)

गुजरात चुनाव को लेकर इन दिनों जिस तरह से राजनीतिक गलियारे काफी गर्म दिखाई दे रहे हैं। कांग्रेस और बीजेपी की मेहनत दिन रात देखने को मिल रही है। जिस तरह से गुजरात के रणभूमि में पीएम नरेंद्र मोदी भी कूद पड़े हैं उसको देखते हुए ऐसा लगता है कि गुजरात चुनाव एक टक्कर का चुनाव होने वाला है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में लोगों का हुजूम यह साफ-साफ बता रहा है कि बीजेपी की मेहनत और नरेंद्र मोदी को चाहने वाले कितने लोगहैं। जैसा कि नरेंद्र मोदी को कुछ समय पहले चाय वाला बोल कर उन पर टिप्पणी किया गया था लेकिन अगर देखा जाए तो इसी टिप्पणी को लेकर बीजेपी फायदा उठा सकती है। क्योंकि नरेंद्र मोदी जब गुजरात पहुंचे तो वहां पर उन्होंने अपने रैली के दौरान साफ साफ कहा कि मैं गुजरात का बेटा हूं और गुजरात ने मुझे बच्चे की तरह पाला है।

  इतना ही नहीं उन्होंने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा था कि तुम्हारी इतनी हिम्मत कि तुम गुजरात में आकर और मुझ पर हमला करना चाहते हो, गुजरात हमारी आत्मा है और भारत परमात्मा। जहां एक तरफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी दिन रात गुजरात चुनाव को लेकर मेहनत करने में जुटे हैं तो वहीं दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपने मेहनत से पीछे नहीं हट रहे हैं।

मोरबी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तेवर उस समय देखने को मिले जब उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और इंदिरा गांधी तक को भी नहीं बख्शा बल्कि अपने भाषण में इन तीनों लोगों पर जमकर निशाना साधा । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी रैली के दौरान कहा कि कांग्रेस का विकास मॉडल हैंडपंप का है लेकिन हमारा विकास मॉडल पाइपलाइन का है।

मोदी ने अपने भाषण में जीएसटी और नोटबंदी के मुद्दे पर भी कांग्रेस को घेरा। पीएम मोदी ने कहा कि ये लोग अब भी नोटबंदी की बात करते हैं। देखा जाए तो नोटबंदी से किसी भी गरीब का कोई नुकसान नहीं हुआ है, और जिन का नुकसान हुआ है वह 12 महीने बाद भी सुखी नहीं है।

कुछ इस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरात की जनता का ध्यान बीजेपी की तरफ मोड़ने के लिए प्रयासरत है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिस तरह से गुजरात के लिए प्रिय हैं और वह खुद भी अपने आप को गुजरात का बेटा बताते हैं वहीं दूसरा पक्ष ये भी सामने आता है कि क्या गुजरात में बेरोजगारी कम हुई है? क्या गुजरात में युवा सभी समस्याओं से मुक्त हैं ?

जी नहीं अगर ध्यान से देखा जाए तो गुजरात में भी युवा बेरोजगार बैठे हैं और गुजरात की जनता इस समय बेरोजगारी की समस्या से जूझ रही है। युवा प्रतिदिन रोजगार की तलाश में सड़कों पर घूम रहे हैं लेकिन कहीं भी रोजगार का कोई पता नहीं। जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जब केंद्र में सरकार बनी तो उन्होंने कहा था कि मैं बेरोजगारी की समस्या को खत्म करूंगाऔर युवाओं को रोजगार दूंगा।

लेकिन अब तक ऐसा कुछ भी संभव नहीं हो सका है बल्कि बेरोजगारी और भी बढ़ती ही दिखाई दे रही है। अगर देखा जाए तो गुजरात का चुनाव काफी दिलचस्प होगा और संघर्षशील होगा क्योंकि एक तरफ राहुल गांधी और दूसरी तरफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। अब जनता चुनती किसको है यह तो वक्त ही बताएगा लेकिन गुजरात में बढ़ रही बेरोजगारी की समस्या और उससे जूझ रहे युवा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस चुनाव में क्या प्रतिक्रिया देते हैं यह भी वक्त ही बताएगा।

फिलहाल हम आपको एक ऐसी वीडियो दिखाने जा रहे हैं जिसमें चुनावी संघर्ष से लेकर गुजरात के बेरोजगार युवाओं की समस्या का जिक्र है। तो देखीए पूण्य प्रसून बाजपेयी की स्पेशल रीपोर्ट। सौजन्य से आज तक।

 

NOTE: आप भी अपनी खबरें हम तक पहुंचा सकते हैं आप हमारे सिटीजन रिपोर्टर भी बन सकते हैं। संवाद न्यूज हर जनता की आवाज उठाएगा। आप अपनी खबरें हमें मेल कर सकते हैं।

Email- bharatsamvadnews198@gmail.com

Whatsapp No- 9935111129

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *