नक्सलियों ने अपहृत कर्मचारीयों को 16 घंटे बाद किया मुक्त

संवाद न्यूज ब्यूरो

 

बिहार में पूर्व रेलवे के मालदा रेल मंडल के किऊल-जमालपुर रेलखंड के मसुदन रेलवे स्टेशन पर प्रतिबंधित संगठन भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) उग्रवादियों के हमले के बाद अपहृत किये गये रेलकर्मियों को मुक्त कर दिया गया है।

 

रेल पुलिस अधीक्षक (जमालपुर) शंकर झा ने बुधवार को बताया कि माओवादियों ने बीती मध्य रात्रि मसुदन रेलवे स्टेशन पर हमला कर स्टेशन मास्टर मुकेश कुमार पासवान और पोर्टर नागेन्द्र मंडल का अपहरण कर कंट्रोल-पैनल को जला दिया।

 

उन्होंने बताया कि माओवादियों के बंद के मद्देनजर जमालपुर रेल पुलिस सीमा के सभी महत्वपूर्ण रेलवे स्टेशनों पर रेल पुलिस पूरी चौकसी बरत रही थीं लेकिन माओवादियों ने मसुदन रेलवे स्टेशन को इस बार टारगेट बना लिया। अपहृत रेलकर्मियों की बरादमगी के लिए स्थानीय पुलिस के सहयोग से संदिग्ध जगहों पर लगातार छापेमारी की जा रही थी।

 

झा ने कहा कि सुरक्षाकर्मियों के बढ़ते दबिश के कारण आज दोपहर माओवादियों ने अपहृत रेलकर्मियों को मुक्त कर दिया है। माओवादी हमले के बाद बीती मध्य रात बारह बजे से आज अपराह्न तक किउल-जमालपुर रेल खण्ड पर अप और डाउन लाइन पर रेलगाड़यिों का परिचालन पूरी तरह ठप है।

 

इस बीच, मालदा रेल मंडल ने 12367 अप भागलपुर-आनन्द विहार विक्रमशिला एक्सप्रेस और 13401 अप भागलपुर -दानापुर इन्टरसिटी एक्सप्रेस को जमालपुर-किउल रेल खण्ड के बदले वाया भागलपुर-मुंगेर-बरौनी रेल खण्ड से चलाने की घोषणा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *