जानिये जलियांवाला बाग नरसंहार कांड के शर्मसार धब्बे की पूरी कहानी

पंजाब के अमृतसर स्थित जलियांवाला बाग में 1919 में अप्रैल माह में बैसाखी के दिन हुआ था। इस दिन जनरल डायर के आदेश पर ब्रिटिश भारतीय सैनिकों ने पंजाब के अमृतसर स्थित जलियांवाला बाग में स्वतंत्रता के लिए प्रदर्शन कर रहे लोगों पर गोलीयां चला दी थी।

इस घटना में ब्रिटिश सरकार के रिकॉर्ड में 400 लोगों के मारे जाने की बात थी, लेकिन कहा यह जाता है कि इसमें एक हज़ार से अधिक लोग मारे गए थे। मरने वालों में पुरुष, महिलाएं और बच्चे शामिल थे।

इसकी 100 वीं बरसी के मौके पर ब्रिटिश सरकार ने इस कांड को ब्रिटिश भारतीय इतिहास में ‘शर्मसार धब्बा’ बताया।

अमृतसर के जलियांवाला बाग के नरसंहार कांड के आज यानी शनिवार को 100 साल पूरे हो रहे हैं. इस मौके पर वहां एक खास कार्यक्रम होने वाला है, जिसमें शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी. इस कार्यक्रम में उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू और पंजाब के राज्यपाल शहीदों को श्रदांजलि देंगे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी शनिवार सुबह अमृतसर पहुंचे और शहीदों को श्रद्धांजलि दी. मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भी उनके साथ रहे.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *