गोण्डा : 50 वर्षों से स्थापित आयुर्वेद अस्पताल हटाए जाने से ग्रामीणों में आक्रोश, भूख हड़ताल जारी

गोण्डा जनपद में कई बरस से स्थापित आयुर्वेदिक अस्पताल को अचानक एक गांव से दूसरे गांव में ट्रांसफर कर दिया गया, जिसको लेकर ग्रामीणों में आक्रोश का माहौल हैं. ग्रामीण तीन दिन से भूख हड़ताल पर बैठे हैं। ग्रामीणों ने कहा जब तक मांग पूरी नहीं हो जायेगी भूख हड़ताल जारी रहेगी। इसके बाद भी जिला प्रशासन और जिम्मेदार विभाग खामोश बैठा हुआ है। जिसे लेकर इलाके में तीखा आक्रोश फैल गया है।

क्या हैं पूरा मामला

प्रकरण विकास खंड कटरा की ग्राम पंचायत सर्वांगपुर का है। करीब पचास वर्षों से आयुर्वेदिक अस्पताल स्थापित था और हजारों क्षेत्रवासी लाभान्वित होते थे । जिसको लेकर पूर्व प्रधान उमापति त्रिपाठी, अशोक तिवारी, रमेश आदि ग्रामीणों ने बताया कि अस्पताल में तैनात फार्मासिस्ट डा. हरिपाल सिंह व चपरासी अयोध्या सिंह 19 जुलाई को रात करीब नौ बजे अस्पताल में रखी दवा ,फर्नीचर व अन्य सामान पिकअप पर लाद कर ठकुरहन पुरवा ले जाकर एक कमरे में रख दिए हैं । जिसके विरुद्ध ग्रामीणों ने भूख हड़ताल शुरू कर दी।

लगातार तीन दिनों से ग्रामीण भूख हड़ताल कर रहे हैं लेकिन प्रशासन की तरफ से अभी तक कोई सार्थक कार्यवाही नहीं की गई है । जिससे ग्रामीणों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। सतीश चंद्र, दुर्गा प्रसाद, स्वामी नाथ तिवारी, राजेश तिवारी, सहित आदि ग्रामीणों ने कहा कि यदि प्रशासन अविलंब कार्यवाही नहीं करता है तो जिला मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन किया जायेगा।

वही बीजेपी नेता विनोद कुमार शुक्ल, अखिल भारतीय ब्राम्हण एकता परिषद जिला अध्यक्ष दिनेश तिवारी आदि ने वहां पहुंच कर हड़ताल पर बैठे लोगों से बातचीत की। नेताओं ने समर्थन देते हुए प्रशासन के रवैये पर गुस्सा जताया है।

(साभार- लाइव हिंदुस्तान )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.